SANS
Contact
पढ़ीं जा होली के एकदमे छंटलका गीत ...

पुरबिया उस्ताद की याद में...

आज महेंदर मिसिर की पुण्यतिथि है. महेंदर मिसिर यानि पुरबी सम्राट. सम्राट जैसा उपनाम ही दे दिया गया है उन्हें लेकिन सम्राट शब्द शायद उनके व्यक्तित्व, कृतित्व पर बहुत फिट नहीं बैठता. वे तो यायावर थे. प्रेम की तलाश में भटकते यायावर. इस ठांव से उस ठांव भटकते ही तो रहे जिंदगी भर. प्रेम के जरिये ही जीवन की मुक्ति का मार्ग बताने में अपनी उर्जा लगानेवाले यायावर की तरह.

Read …

महेंदर मिसिर के गीतन के गवनई के अनुभव

लईकाइये से माई के हरमोनिया पर अंगुरी चलावत देखत रहीं तो हमार मन इस्कूल से मिलेवाला होमवर्क में ना लागी कि हरमोनिया के रीढ़ में अटक जात रहे. इस्कूल जात रहीं तो माई से सुनल गीतन के ही रट के जात रहीं आउर मास्साब लोग के कहत रहीं कि आज ईहे में समय लाग गईल ह, होमवर्क ना कर पईनी ह. मास्साब लोग कुछ बोलो, ओकरा पहिलहीं कान पकड़ के उठ-बईठ कर लेत रहीं. मास्साब लोग भी जान गईल रहे लोग कि हमार मन पढ़ाई-लिखाई में ना लागे, एह से उ लोग भी सजा के रूप में जब मन तब बोलाई के गाना सुनावे के कहत रहे लोग.

Read …

भोजपुरी गायकी अपनों से ही हार गई


दयानंद पांडे

भोजपुरी गायकी अपनों से ही हार गई है : मिठास की जगह अश्ली लता ने ले लिया : 'तोहरे बर्फी ले मीठ मोर लबाही मितवा' जयश्री यादव के इस गीत की तरह में ही कहें तो भोजपुरी गीतों में मिठास की यही परंपरा उसे बाकी लोकगीतों से न सिर्फ़ अलग करती है बल्कि यही मिठास उसे अनूठा भी बनाती है.
पर आज की तारीख में भोजपुरी के मसीहा बने बैठे गायकों और ठेकेदारों ने बाज़ार की भेंट चढ़ा कर भोजपुरी गायकी को न सिर्फ़ बदनाम कर दिया है बल्कि कहूं कि इसे बर्बाद कर दिया है. भोजपुरी का लोक अब बाज़ार के हवाले हो कर अश्लीलता, फूहड़पन और अभद्रता की छौंक में शेखी बघार रहा है. और बाज़ार के रथ पर सवार इस व्यभिचार में कोई एक दो लोग नहीं वरन समूचा गायकों- गायिकाओं का संसार जुटा पड़ा है.

Read …

चढ़त चैत चित लागे न रामा..

चंचल


फाल्गुन शुक्ल पक्ष पूर्णिमा को होलिका दहन के साथ ऋतुराज वसंत विदा हो जाते हैं. महीने भर उड़ा रंगों का गुबार थम जाता है. रंग बाज दफे प्रफुल्लित हो जाया करते हैं. इसमें से कविता, कहानी या यादें उगती हैं. ‘लोक’ इन्हें संजो कर रखता है. संगीत, नृत्य, कला में, रंग मंच पर ये बेबाक हस्ताक्षर बनते हैं. ओ सुनो सामुझ निगरुनिया गा रहा है- कोठवा पे ढुंढ़लीं, अटरिया पे ढूंढ़लीं, सेजिया पे ढूंढ़तै लजा गेली रामा.. मद्दू पत्रकार लोक पर थे, कि अचानक लाल्साहेब ने रोक लगा दी- का बात है गुरु! आज अल्सुबहै लगे लसियाने? मद्दू ने पाला बदला-लोक गायब हो रहा है.

Read …

गावेले दास गायत्री, खींच के तीन गो चिचरी...


जिंदगी भर भोजपुरी को जगाते रहे, गायकी की दुनिया में उर्जा भरते रहे, खुद खामोशी के साथ चले गये भोजपुरी सम्राट गायत्री ठाकुर

Read …

लौंडा बदनाम हुआ...

निराला

लौंडा को बदनाम करने-करवाने वाला गीत ‘ लौंडा बदनाम हुआ, नसीबन तेरे लिए...’ किसने रचा था, इसका पता लगाया जाना अब भी बाकी है लेकिन लगभग अब यह हर कोई जानता है कि इसे गा-गाकर लोगों के बीच मशहूर करने और लोकमानस में रचा-बसा देने का पहला श्रेय ताराबानो फैजाबादी के नाम है. करीब तीन-चार दशक पहले दिलकश अदा के साथ बहुत ही खूबसूरती से लौंडों को बदनाम करवायी थीं ताराबानो. उसके बाद से तो लौंडे को बदनाम करने-करवानेवालों की फौज ही खड़ी हो गयी और फिर तो लौंडे बदनामी का ही पर्याय बन गये.

Read …

भोजपुरी धरती और लोकराग- कृष्ण बिहारी मिश्र का व्याख्यान

अपनी बोली-बानी, धरती-धाम, घर-आंगन, राह-घाट, खेत-खलिहान से मिलना-जुलना, बोलना-बतियाना हर आदमी को अंतरंग सुख देता है. अपनी शोभा-शक्ति की चर्चा करना और सुनना अत्यंत प्रीतिकर होता है. मेरी मातृबोली में दीर्घकाल से गूंजने वाले लोकगीतों की वैशिष्ट्य-चर्चा का अवसर देकर मेरी ग्रामीण संवेदना को उल्लास-मुखर होने का उपयुक्त आधार आपने दिया है. आपके विवेक और सहृदयता के लिये मैं आपका आभारी हूं. अपनी बोली और अपनी मां किसे अच्छी नहीं लगती और जाति अपमान किसे कष्ट नहीं देता. जाति से मेरा अभिप्राय उस बहुआयामी आधार से है जो हमारे व्यक्तित्व को रूपायित करता है, स्वकीय वैशिष्ट्य से युक्त करता है. भोजपुरी धरती, हवा-पानी ने मुझे चलना-बोलना सिखाया है, अंखफोर बनाया है, लोक चक्षु से चक्षु मिलाने की संवेदना और शक्ति दी है. इसलिये इसे जब कोई अन्यथा दृष्टि से निहारता है तो अनायास मेरा स्वाभिमान उत्तेजित हो जाता है.

Read …

भंवरजाल में भोजपुरी!

आज सुबह-सुबह अखबार में एक छोटी-सी खबर पर नजर गयी.लोकगायिका मालिनी अवस्थी को भोजपुरी अकादमी, बिहार ने ब्रांड अंबेसडर बनाया है. अगले तीन सालों तक वे अकादमी का ब्रांड अंबेसडर रहेंगी. भोजपुरी का प्रचार प्रसार करेंगी. नहीं मालूम ब्रांड अंबेसडर चयन की क्या प्रक्रिया है, क्या मानदंड हैं. और न तो मालिनीजी से, न ही अकादमी के किसी पदाधिकारी से, किसी से व्यक्तिगत तौर पर कोई राग-द्वेष नहीं. मालिनीजी से अब तक कभी मिला नहीं हूं, अकादमी का दफ्तर कहां है, पदाधिकारियों का आवास कहां है, यह जानने की जरूरत कभी नहीं पड़ी. बतौर गायिका, मालिनी जी का सम्मान करता हूं. उनकी खास शैली और गायन में जो मुरकी होती है, उस वजह से उनका एक बड़ा प्रशंसक हूं लेकिन सच कहूं तो अकादमी का निर्णय बार-बार अखरन का भाव पैदा कर रहा है.

Read …

बिदेसिया के निहोरा बा

Bhojpuri Cinema

 

बिदेसिया राउर आपन मंच बा. एगो साझा प्रयास बा. मकसद बा लोकरंग, लोकजीवन से जुड़ल लोक इतिहास सामने आवे. जे समृद्ध परंपरा रहल बा, ओकर दस्तावेजीकरन होखे. आप सबसे आग्रह बा, अधिक से अधिक सामग्री जुटा के बिदेसिया के समृद्ध करींजा.
संपर्क करीं जा : niralabidesia@gmail.com

 

बिदेसिया बिसेस: भिखारी ठाकुर

भोजपुरी सिनेमा के 50 बरिस

चिठी-पतरी, आख्यान-व्याख्यान

नदिया के पार के 25 वर्ष

दामुल के 25 साल

25 Yrs of Damul

एगो ऐतिहासिक क्षण

Contact Bidesia